तीन बहनों की चुत चुदाई की कहानी- 2

हॉट सिस्टर्ज़ चुदाई कहानी में पढ़ें कि तीन सगी बहनें चुदाई के लिए तड़प रही थी. आखिर वे पढ़ाई के बहाने अपने प्रोफेसर के घर गयी. वहां वे तीन सिस्टर्स कैसे चुदी?

दोस्तो, तीन बहनों की चुदाई की कहानी के पहले भाग
चुदाई की प्यासी तीन सगी बहनें
में मैंने अब तक आपको बताया था कि प्रोफेसर आलोक ने सिमरन की चुत को उसकी पैंटी के ऊपर से ही सूंघना शुरू कर दिया था. सिमरन भी आलोक के लंड को चाट रही थी.

अब आगे हॉट सिस्टर्ज़ चुदाई कहानी:

जैसे ही सिमरन आलोक का लंड अपने मुँह में भर कर चूसने लगी, आलोक ने सिमरन की पैंटी को भी उतार दिया और सिमरन को पूरी तरह से नंगी कर दिया.

सिमरन नंगी होने से शर्मा रही थी और उसने अपना चेहरा आलोक के सीने में छिपा लिया.
इसी दौरान आलोक ने सिमरन की चूचियों को चूसना फिर से चालू कर दिया.
सिमरन की चूची अब पत्थर के समान कड़ी हो गई थीं.

तब आलोक ने सिमरन को फिर बिस्तर पर चित लिटा दिया और उसकी बुर को अपनी जीभ से चाटने लगा; अपनी जीभ सिमरन की बुर के अन्दर बाहर फिराने लगा.

अपनी बुर में आलोक की जीभ घुसते ही सिमरन को बहुत मजा आने लगा. वो जोर से आलोक का सिर अपने बुर के ऊपर पकड़ दबाने लगी और थोड़ी देर के बाद अपनी कमर ऊपर नीचे करने लगी.

आलोक चुदाई के मामले में बहुत माहिर खिलाड़ी था, वो सिमरन की कसमसाहट से समझ गया कि अब सिमरन की बुर में लंड पेलने का समय आ गया है.
उसने सिमरन का मुँह चूम कर धीरे से उसके कान पर मुँह रख कर पूछा- सिमरन रानी, अपनी कमर क्यों उछाल रही हो? क्या तुम्हारी चूत में कुछ कुछ हो रहा है?

  कुंवारी बेटियां चुदकर बन गई बीवियां - 2

सिमरन बोली- हां मेरे डियर सर, कुछ कुछ नहीं … मेरी बुर में चींटियां सी रेंग रही हैं … मेरा सारा बदन तप रहा है, अब तुम ही जल्दी से कुछ करो.
आलोक ने पूछा- क्या तुम अपनी चूत को मेरे लंड से चुदवना चाहती हो?

सिमरन ने झुंझला कर कहा- अरे यार, आपने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और अपने भी कपड़े भी उतार दिए और अब भी पूछ रहे हो कि क्या चुदाई करवानी है … मुझे जल्दी से आपका लंड मेरी चुत में चाहिए.
आलोक ने ये सुना तो उसने सिमरन से बोला- ठीक है मेरी जान, अब मैं तुमको चोदूंगा, लेकिन तुमको पहले पहल थोड़ा दर्द होगा, पर मैं तुम्हें बहुत ही प्यार से और धीरे धीरे चोदूंगा … मैं कोशिश करूंगा कि तुमको दर्द महसूस न हो.

अब आलोक उठा और सिमरन के दोनों पैर उठा कर घुटनों से मोड़ दिए.
उसने सिमरन के दोनों पैरों को अपने हाथों से फैला दिया.

इसके बाद उसने ढेर सारा थूक अपने हाथ में लेकर पहले अपने लंड में लगाया, फिर सिमरन की बुर पर लगाया.

थूक से सनी बुर के छेद पर आलोक ने अपने खड़े लंड को रखा और धीरे से कमर को आगे बढ़ा कर अपना सुपारा सिमरन की बुर में घुसा दिया और सिमरन के ऊपर लेटा रहा.
अनचुदी बुर में लंड घुसा तो सिमरन की चुत परपराने लगी.

मगर अभी लंड ने चुत को चीरा नहीं था तो सिमरन को ख़ास दर्द नहीं हो रहा था.

थोड़ी देर के बाद जब सिमरन नीचे से अपनी कमर हिलाने लगी तो आलोक ने धीरे धीरे अपना लंड सिमरन की बुर में पेलना शुरू किया.

  कोरोना वाली भाभी की चूत गांड चोद दी

इससे सिमरन का बदन दर्द से कांपने लगा और वो चिल्लाने लगी- आह बाहर निकाल लो सर … आह मेरी बुर फटी जा रही है. हाय मैं मर गई … मेरी बुर फटी जा रही है. आप तो कह रहे थे कि थोड़ा सा दर्द होगा और आप आराम आराम से चोदोगे. मुझे नहीं चुदवाना है, आह … आप अपना लंड बाहर निकालो.

आलोक ने सिमरन के मुँह में अपना हाथ रख कर कहा- बस मेरी रानी बस, अभी तुम्हारा सारा दर्द खत्म हो जाएगा और तुम्हें मज़ा आने लगेगा. बस थोड़ी सी देर और बर्दाश्त करो.
सिमरन- आह उई … मेरी बुर फटी जा रही है … और आप कह रहे हो कि थोड़ी देर और बर्दाश्त करो. अरे मुझे नहीं चुदवानी है अपनी बुर, आप अपना लौड़ा मेरी बुर से बाहर निकालो!

सिमरन की आंखों से आंसू आ गए.

इतनी देर में आलोक अपनी कमर उठा कर एक जोरदार धक्का मारा और उसने महसूस किया कि उसका सारा का सारा लंड सिमरन की बुर में घुस गया है और सिमरन की बुर से खून निकल रहा है.

सिमरन दर्द के मारे तड़पने लगी और आलोक को अपने हाथों से अपने ऊपर से हटाने की कोशिश करने लगी.

आलोक सिमरन को मज़बूती से पकड़े हुए था और उसका हाथ सिमरन के मुँह के ऊपर था इसलिए सिमरन कुछ ना कर सकी .. वो बस छटपटा कर रह गयी.

आलोक ने अपना लंड सिमरन की बुर के अन्दर ही थोड़ी देर के लिए रहने दिया.
उसने सिमरन की एक चूची को अपने मुँह में लेकर जीभ से सहलाना शुरू कर दिया और दूसरी चूची को हाथ से सहलाना शुरू कर दिया.

थोड़ी देर बाद सिमरन की चुत का दर्द गायब हो गया और अब उसे मज़ा आने लगा. उसने नीचे से अपनी कमर को ऊपर नीचे करना शुरू कर दिया.

आलोक भी धीरे धीरे अपनी कमर हिला हिला कर अपना लौड़ा सिमरन की बुर में अन्दर-बाहर करने लगा.

कुछ ही देर में सिमरन ने भी अपनी गांड उठा कर जोरदार धक्के देना शुरू कर दिए.

जब आलोक का लंड उसकी बुर में अन्दर घुसा होता तो सिमरन उसे कस कर जकड़ लेती और अपनी बुर को सिकोड़ लेती थी.
इससे चुदाई की रगड़ उसे भरपूर मजा दे रही थी.

यह महसूस करके आलोक भी समझ गया कि सिमरन को चुदाई का मज़ा आने लगा है.

ये समझते ही आलोक ने अपनी कमर को ऊपर खींच कर अपना पूरा का पूरा लंड सिमरन की बुर से बाहर निकाला … उसने सिर्फ लंड का सुपारा ही फांकों में फंसा छोड़ा था.
फिर उसने एक जोरदार झटके के साथ अपना लंड सिमरन की बुर में पेल दिया.

इस झटके से सिमरन बुरी तरह से कलप उठी और आलोक से लिपट गई.

उसने आलोक को अपने हाथ और पैर से जकड़ लिया था. सारे कमरे में सिमरन और आलोक की सिसकारियां और उनकी चुदाई की ‘फच … फच .. फट फट …’ की आवाज ही गूंज रही थी.

सिमरन अपने मुँह से सीत्कार रही थी- अह अह … ओह हां और जोर से आह और जोर से … हां ऐसे ही अपना लंड मेरी बुर में पेलते रहो … मजा आ गया सर.

आलोक भी पूरी गति से सिमरन की बुर में अपना लंड अन्दर-बाहर करके उसको चोद रहा था.
सिमरन बुरी तरह से आलोक से चिपकी हुई थी.

काफी देर तक सिमरन की बुर चोद रहे आलोक का लंड अब झड़ने वाला हो गया था.
उसने 8-10 धक्के काफी जोरदार लगाए और उसके लंड से ढेर सारा पानी सिमरन की बुर में गिर कर समा गया.

आलोक के झड़ जाने के साथ ही साथ सिमरन की बुर ने भी पानी छोड़ दिया.
उसने अपने हाथ पैर से आलोक को जकड़ लिया.

आलोक हांफ़ते हुए सिमरन के ऊपर गिर गया और थोड़ी देर तक दोनों एक दूसरे से चिपके रहे.

फिर सिमरन उठ कर अपनी बुर में हाथ लगाए हुए बाथरूम की तरफ़ चली गयी.

आलोक इस समय बुरी तरह से थक चुका था और वो बेड पर पड़ा रहा लेकिन उसका लंड अभी भी खड़ा था.

उधर हरलीन और शीरीन दोनों एक दूसरे को बुरी तरह से चूम चाट रही थीं.

पांच मिनट बाद आलोक ने आंखें खोलीं और उन दोनों को इस तरह से खेलते देखा तो वो अपनी जगह से उठ कर उन दोनों के पस चला गया.

वो हरलीन की चिकनी जांघ पर अपना हाथ फेरने लगा.

हरलीन जो पहले ही मदहोश थी, अपने पैर पर आलोक का हाथ लगते ही अपने आप पर काबू नहीं रख सकी.
उसने शीरीन को छोड़ दिया और वो आलोक की तरफ़ मुड़ गयी.

उसके सामने आलोक बिल्कुल नंगा अपना खड़ा लंड लिए खड़ा था.

आलोक एक बार फिर से चुत चोदने के मूड में आ गया था.

हरलीन ने आलोक के चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और अपना मुँह उसके लंड पर रगड़ने लगी.

आलोक का लंड अब भी सिमरन की चूत के खून और रस से भीगा हुआ था.
उसने हरलीन को अपने दोनों हाथों में बांधा और उसे चूमने लगा.

आलोक का हाथ हरलीन की नंगी सेक्सी जवानी पर घूमने लगा था. उसका हाथ हरलीन की चूचियों पर गया और वो उसकी दोनों कड़क चूचियों को अपने हाथों में लेकर मसलने लगा.

हरलीन अपनी चूचियों पर आलोक का हाथ पाते ही और जोश में आ गयी और उसने अपना हाथ आलोक के खड़े लौड़े पर रख दिया.

आलोक ने अपना लंड हरलीन की मुट्ठी में पाते ही उसकी एक चूची को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगा.
वो दूसरी चूची को अपने हाथ में लेकर उसका निप्पल मसलने लगा.

कुछ ही देर में हरलीन ने आलोक के लंड को अपने हाथों में पूरा ले लिया और उसके सुपारे को एक बार खोल कर बंद किया.

उसे लंड देख कर गर्मी चढ़ गई और एकाएक हरलीन ने आलोक के लंड के सुपारे को अपने मुँह में भर लिया.
वो लंड चाटने लगी.

जैसे ही हरलीन ने आलोक का लंड अपने मुँह में लिया, वैसे ही आलोक ने अपनी कमर को हिला कर अपना लंड हरलीन के मुँह के अन्दर पेल दिया.

वो बोला- ले ले मेरी रानी … मेरा लंड अपने मुँह में लेकर इसको खूब चूस … इसके बाद मैं इसको तुम्हारी चूत में डाल का इसे चूत चुसाऊंगा.

हरलीन ने अपने मुँह से आलोक का लंड निकाल कर कहा- बस सिर्फ मेरी चूत से ही अपना लंड चुसवाओगे, गांड से नहीं? मैं तो तुम्हारा लंड अपनी चूत और गांड दोनों से खाऊंगी. क्या तुम मुझको अपना लंड दोनों छेदों में खिलाओगे?

आलोक की तो मानो लॉटरी निकल आई थी. वो तो अब तक तीन छेद ही समझ रहा था, जबकि उसे अब छह सील बंद छेदों की जुगाड़ दिखाई देने लगी थी.

थोड़ी देर के बाद आलोक ने हरलीन को पलंग पर ले जाकर चित करके लेटा दिया और उसके पैरों के पास बैठ कर उसकी सलवार को खोलने लगा.
सलवार खोलने में हरलीन ने भी आलोक को मदद की और नाड़ा खुलते ही उसने अपनी गांड उठा कर सलवार को नीचे सरका दी, फिर अपनी टांगों से उसे अलग कर दिया.

सलवार उतरने के बाद आलोक ने हरलीन की पैंटी को भी इसी तरह खींचते हुए उतार दिया.

अब हरलीन की गुलाबी कुंवारी चूत उसकी संगमरमर सी चिकनी जांघों के बीच चमकने लगी.

आलोक हरलीन की गुलाबी चूत को अपनी दम साधे देखने लगा और अपनी जीभ होंठों में फेरने लगा.

हरलीन ने आलोक को वासना भरी नजरों से देखा और अपनी चुत को हल्की सी जुम्बिश दी तो आलोक ने झुक कर हरलीन की चूत पर चुम्मा धर दिया और अपना जीभ निकाल कर उसकी चूत की घुंडी को तीन-चार बार चाट दिया.

इससे हरलीन की मादक आह निकल गई; उसकी चुत को मानो जन्नत का सुख मिल गया था.

अब आलोक ने हरलीन की टांगों को फ़ैलाया और ऊपर उठा कर घुटनों से मोड़ दिया.

हरलीन को इस वक्त लंड का इंतजार था.

आलोक ने भी देर नहीं की … उसने अपना लंड हरलीन के चूत के मुहाने पर रख दिया.

इतना करने के बाद आलोक हरलीन के ऊपर झुक गया और उसकी चूचियों को चूसने लगा, भंभोड़ने लगा.
हरलीन मस्त होने लगी.

नीचे उसकी चुत पर लंड की गर्मी मजा दे रही थी और ऊपर चूचियों को चुसवाने का सुख मिल रहा था.

उसके मुँह से हल्के स्वर में कामुक आहें निकलने लगीं.

थोड़ी देर के बाद आलोक ने अपना लंड हरलीन की चूत की फांकों में टच किया और चुत में लंड रगड़ने लगा.

लंड के स्पर्श से हरलीन चुदास से भर उठी और अपनी कमर उठा उठा कर आलोक का लंड अपने चूत में लेने की कोशिश करने लगी.

जब हरलीन से नहीं रहा गया तो वो बोली- अब क्यों तड़पाते हो, कब से आपका लंड अन्दर लेने की लिए मेरी चूत बेकरार है और आप अपना लंड सिर्फ मेरी चूत के ऊपर ऊपर ही रगड़ रहे हो. अब जल्दी करो और मुझको चोदो, फाड़ दो मेरी कुंवारी चूत को. आज मैं लड़की से औरत बनना चाहती हूँ, अब ज्यादा परेशन मत करो. जल्दी से मुझे चोदो और मेरी चूत की आग को बुझा दो.

हरलीन की इतनी सेक्सी मिन्नत सुनते ही आलोक एक तकिया बेड से उठा कर हरलीन के चूतड़ों के नीचे लगा दिया, जिससे हरलीन की चुत और ऊपर को उठ गई और खुल गयी.
लंड ने भी चुत की फांकों में से काफी रस निकाल दिया था. चुत एकदम रसीली हुई पड़ी थी.

आलोक ने अपने लंड से एक जोरदार धक्का हरलीन की चूत में दे मारा.

चिकनाई के कारण उसका पूरा लंड सरसराता हुआ हरलीन की चूत में जड़ तक घुस गया.
हरलीन के मुँह से चीख निकल गयी और उसकी चूत से खून निकलने लगा.

लेकिन उसे इस बात का पता ही नहीं चला कि खूनाखच्ची हो गई है.
उसे तो भयंकर वाला दर्द हो रहा था इसलिए हरलीन ने आलोक को जोरों से जकड़ लिया और अपनी टांगें आलोक की कमर पर कस दीं.

लंड चुत की जड़ में ठोकने के बाद आलोक ने लंड की पोजीशन को स्थिर कर दिया और वो हरलीन की एक चूची चूसते हुए एक हाथ से दूसरी चूची की घुंडी को मसलने लगा.

धीरे धीरे हरलीन का दर्द कम होने लगा और उसकी गर्मी फिर से बढ़ने लगी.
कोई दो मिनट बाद हरलीन खुद अपनी कमर को ऊपर नीचे करने लगी.

आलोक ने भी अब अपनी कमर चलानी चालू कर दी और वो हरलीन की चूत में अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा.

हरलीन की चुत मोटे लंड के कारण काफी परपरा रही थी और इसी कारण से वो छटपटा रही थी. मगर उसे अपनी बहनों के जैसे चुत फड़वाने की बेचैनी थी इसलिए वो दांत भींच कर दर्द को सहन करने लगी.

हॉट सिस्टर्ज़ चुदाई कहानी के अगले हिस्से में हरलीन की आगे की चुदाई लिखूंगा … आप मेरी इस सेक्स कहानी के लिए अपने कमेंट्स करना न भूलें.

आपका पार्थो सेन गुप्ता
[email protected]

हॉट सिस्टर्ज़ चुदाई कहानी का अगला भाग: तीन बहनों की चुत चुदाई की कहानी- 3

(Visited 5,715 times, 1 visits today)